Digital Skill Capital

traditional marketing v/s digital marketing in Hindi top 12 difference

Top 12 Difference in Traditional Marketing V/S Digital Marketing

Introduction

दोस्तो आपका स्वागत है हमारे आज के इस ब्लॉग traditional marketing v/s digital marketing in Hindi किसी भी Product या सर्विस के लिए मार्केटिंग एक बहुत ही जरूरी और इंपोर्टेंट Aspect हैं। मार्केटिंग के बगैर हम अपने प्रोडक्ट या सर्विस को कस्टमर तक नहीं पहुंचा सकते है। कस्टमर तक पहुंचने के लिए कंपनिया बहुत सारे तरीके अपनाती है जिसमे से कुछ important तरीके है जैसे ट्रेडिशनल मार्केटिंग या डिजिटल मार्केटिंग एक महत्वपूर्ण तरीका है।दोस्तो किसी भी Product या सर्विस की मार्केटिंग करने से पहले आपको ये निर्धारित करना पड़ेगा की  कौन सी मार्केटिंग स्ट्रैटजी आपके बिजनेस के लिए सही है चाहे फिर वोdigital marketing  हो या फिर Traditional Marketing हो क्योंकि Traditional Marketing की वैल्यू अपनी जगह है और डिजिटल मार्केटिंग की अपनी जगह आज हम इस लेख में जानने वाले है की ट्रेडिशनल मार्केटिंग और Digital Marketing में क्या अंतर है और इसके फायदे और नुकसान क्या है। तो बने रहिए हमारे साथ traditional marketing v/s digital marketing in Hindi.

Table of Contents

What is traditional marketing in Hindi?

Marketing एक एक्टिविटी है किसी प्रोडक्ट या सर्विसेज को अपने टार्गेटेड कस्टमर तक पहुंचना या बताना  Traditional marketing , marketing का एक पुराना तरीका है अगर हम बात करे 1990 की मार्केटिंग का जो सबसे पॉपुलर और इफेक्टिव तरीका था t.v ads रेडियो ads billboards magazines पैम्फलेट door to door marketing इसे traditional marketing कहते है।

 

Traditional Marketing के तरीके

1. Marketing in a public place (सार्वजनिक स्थान पर मार्केटिंग

2.Radio और Television मार्केटिंग

3. Tradeshow Marketing

4. Print Media Marketing

5. Telemarketing

6. Business Card Marketing

1. Marketing in a public place (सार्वजनिक स्थान पर मार्केटिंग

अपने जरूर कभी न कभी सार्वजनिक स्थान पैफलेट बिजनेस कार्ड या बिलबोर्ड्स देखने को मिले होंगे ये सब मार्केटिंग के ही टूल है।

2. Radio और television मार्केटिंग

टी वी और रेडियो हमारे जीवन का एक अहम हिस्सा बन चुके है टीवी और रेडियो को बंद होने अभी काफी समय लगेगा और ट्रेडिशनल मार्केटिंग का जो दौर है अभी चलता रहेगा T.v. और रेडियो विज्ञापन मास मार्केटिंग की श्रेणी में आते है क्योंकि इसके माध्यम से राष्ट्रीय और दुनियाभर के दर्शकों तक पहुंचा जा सकता है प्रसारण विज्ञापन की भूमिका उपभोक्ताओं को अपने प्रोडक्ट या सर्विस के लाभों के बारे में समझाना है इसे विज्ञापन का एक बहुत ही प्रभावशाली माना जाता है।

3. Tradeshow Marketing

Tradeshow Marketing traditional marketing का बेहतरीन तरीका है आम तौर पर एक industry और उस industry में रुचि रखने वाले लोगो को हम टारगेट करते है एक ट्रेडशो मार्केटिंग में हम अपने प्रोडक्ट का ब्रांड अवेयरनेस का शानदार तरीका रहा है प्रदर्शनी लोगो की और b2b मार्केटिंग के लिए एक अच्छा माध्यम है Tradeshow marketing B2B के क्षेत्र में आने वाले विजिटर के अधिग्रहण की संभावना ३४ परसेंट तक अधिक होती है।

4.Print media marketing

Print media Marketing का एक रूप है जो अपने उपभोक्ताओं तक पहुंचने के लिए paid media जैसे पत्रिकाओं और और समाचार पत्रों का उपयोग करता है आज के समय में ज्यादातर लोग डिजिटल मार्केटिंग का उपयोग कर रहे है अपने टारगेट कस्टमर तक पहुंचने के लिए लेकिन आज के समय में प्रिंट प्रिंट मीडिया के विज्ञापन खर्चे में गिरावट आई है। लेकिन अभी भी यह मरी नही है।

5. Telemarketing

Telemarketing ववासायियो या विक्रेताओं द्वारा उपयोग की जाने वाली एक मार्केटिंग तकनीक है। जिसमे वे किसी प्रोडक्ट या सर्विस के लिए संभावित खरीददारों या ग्राहकों से संपर्क करते है telemarketing को टेलीकालिंग के रूप में भी जाना जाता है। टेलीमार्केटिंग की शुरुआत 1960 में की गई थीं आज टेलीमार्केटिंग अभी भी बिक्री के लिए व्यापक रूप से उपयोग की जाने वाली मार्केटिंग है।

6.Business card Marketing

एक बिजनेस कार्ड सबसे सस्ते और मूल्यवान मार्केटिंग टूल में से एक है यह आपकी कंपनी की पहचान को स्थापित करता है और कम्पनी के बारे में उचित जानकारी प्रदान करने पर मार्केटिंग टूल के रूप में कार्य करता है कागज का यह टुकड़ा आपके प्रोडक्ट या सर्विसेज के लिए बहुत ही जरूरी टूल है क्योंकि यह ग्राहकों को लाने में मदद करता है।

 

Traditional Marketing के फ़ायदे

1.आप अपनी पसंद का  प्रोडक्ट देख कर  ले सकते है। Exactly जो आपको पसंद है।

2. Offline Marketing Customer की loyalty को बढ़ावा देता है।

3.आप अपने ग्राहक के साथ एक अच्छा relation बना के रख सकते है।

 4.आप अपने ग्राहक को अपने साथ कभी लंबे समय तक जोड़ के रख सकते है।

 

Traditional Marketing के नुक़सान

1. ऑफलाइन मार्केटिंग में काफी समय लग सकता है।

2. ऑफलाइन मार्केटिंग में हम लिमिटेड ऑडियंस तक ही पहुंच सकते है।

3. अगर हमे ऑफलाइन मार्केटिंग करनी है तो हमारा मार्केटिंग का बजट बहुत ज्यादा होता है।

4. यह समय २०२२ का चल रहा है अगर मार्केटिंग के बात करे तो मार्केटिंग एक बहुत महत्वपूर्ण  विषय है आज के समय के लोग मार्केटिंग की नई नई तकनीक अपना रहे है लेकिन कोई भी मार्केटिंग  campaign चलाने से पहले हमे अपने target audience के बारे पता होना चाहिए ताकि हम एक ज्यादा से ज्यादा रिजल्ट मिल सके 

मार्केटिंग के चार महत्वपूर्ण स्तंभ

1. Product

2. Price

3. Place

4. Promotion

Also, read this blog’s traditional marketing v/s digital marketing

Digital Marketing versus Traditional Marketing: Secret to Grow your Business

Digital Marketing क्या है ?

जब हम अपने किसी Product या Service को किसी Electronic Device के जरिए जैसे की लैपटॉप कंप्यूटर मोबाइल फोन और मोबाइल apps और Internet की सहायता से अपने प्रोडक्ट या सर्विस को मार्केट करते है  तो उसे हम डिजिटल मार्केटिंग कहते है।

अगर हमे आज के समय अगर हमे अपने किसी Product या सर्विस को कम बजट में Marketing करनी हो और बहुत लोगो तक पहुंचना हो तो डिजिटल मार्केटिंग एक बहुत ही अच्छा माध्यम है क्योंकि हम कम बजट में अपने टार्गेटेड कस्टमर तक पहुंच सकते है

Digital Marketing ke प्रकार

1. Search engine Marketing SEO digital Marketing

का एक महत्वपूर्ण अंग है जैसे हमारे शरीर में आत्मा होती होती है वैसे हमारे वेबसाइट का ट्रैफिक भी वेबसाइट की आत्मा होती है SEO हमारी वेबसाइट को पहले पेज पर प्रदर्शित करता है ताकि हमारे वेबपेज पर ऑर्गेनिक reach ज्यादा हो ताकि हमारा बिजनेस बढ़ सके और SEO करना एक साइंस है। Also read this what is SEO  https://digitalskillcapital.com/digital-marketing-course-in-hindi/

2. Affiliate Marketing

एक बहुत ही अच्छा और बेहतरीन तरीका है ऑनलाइन घर बैठे पैसे कमाने का अगर इंडिया की ही बात करे तो After COVID India में Affiliate मार्केटर जुड़े है। जो घर बैठे आज लाखो की इनकम कमा रहे है एफिलिएट मार्केटिंग डिजिटल मार्केटिंग का एक अच्छा तरीका है।

Social Media Marketing

Social media Marketing SMM

Internet Marketing ka एक जरिया है जिसे हम सोशल मीडिया Apps को मार्केटिंग टूल के रूप में उपयोग होता है।

सोशल मीडिया एक बहुत ही पावरफुल Platform Marketing का।

सोशल मीडिया मार्केटिंग के Important टूल

1. Twitter

2. Facebook

3.YouTube 

4. Pinterest

5.Instagram

6. Linkedin

Inbound marketing

Inbound Marketing Audience को ऑर्गेनिक तरीको जैसे सर्च इंजन और दोस्तो के साथ अपनी मार्केटिंग funnel link’s साझा करके उनको अपने funnel के साथ जोड़ना उसे हम Inbound Marketing कहते है।

उदाहरण के तौर पे जब एक ब्लॉगर अपनी पसंद के प्रोडक्ट के बारे में अपने ब्लॉग को इस तरह से लिखता है की जैसे वो अपने ब्लॉग रीडर से बात कर रहा हो और ब्लॉग पढ़ने के बाद रीडर उसका कस्टमर या लीड बन जाए।

Native Ads

Native ads की बात करे तो नेटिव ads आपके ब्लॉग या कंटेंट के हिसाब से होता है। उदाहरण के तौर पर नेटिव ads आपके ब्लॉग या कंटेंट के बीच में मिला हुआ होता है जिससे जब कोई ads हमारे ब्लॉग्स या वेबसाइट पर शो होती है तो हमारी ऑडियंस को इतना बुरा नही लगता क्योंकि जो ads आ रही है उनके इंट्रेस्ट के हिसाब से ही आ रही है।

Native ad के प्रकार।

1. Outbrain native  ad

2. propeller native ad

3. Tabula native ad

4. Ad now native ad

Content Marketing

Content Marketing मार्केटिंग की तकनीक है जिसमे हम अपने ऑडियंस की पसंद का कंटेंट बनाते है है। जिससे हम अपने ऑडियंस को एक लीड या ग्राहक में बदल सके ।

कंटेंट मार्केटिंग के प्रकार।

1. Video 

2. Infographics

3. Audio 

4. Podcast

5. eBooks

6. Blog 

7.Gif Memes

 

Digital marketing के फ़ायदे

Traditional Marketingकी तुलना में Digital Marketing के कई फायदे हैं। सबसे पहले, यह बहुत अधिक लागत प्रभावी है। पारंपरिक विपणन विधियां बहुत महंगी हो सकती हैं, खासकर यदि आप टीवी या प्रिंट विज्ञापन का उपयोग कर रहे हैं। डिजिटल मार्केटिंग के साथ, आप लागत के एक अंश के लिए बड़े दर्शकों तक पहुँच सकते हैं। दूसरा, डिजिटल मार्केटिंग अधिक लक्षित और कुशल है। आप विशेष रूप से लक्षित कर सकते हैं कि आप अपने संदेश के साथ किस तक पहुंचना चाहते हैं और जान सकते हैं कि वे इसे देख रहे हैं। पारंपरिक विपणन विधियों में अक्सर बड़े पैमाने पर विज्ञापन शामिल होते हैं, इस बात की कोई गारंटी नहीं होती है कि आपका लक्षित बाजार विज्ञापन देख रहा है। अंत में, डिजिटल मार्केटिंग अधिक आकर्षक और इंटरैक्टिव है। आप वास्तव में अपने ग्राहकों के साथ बातचीत करने और उनकी प्रतिक्रिया प्राप्त करने के लिए सोशल मीडिया और ईमेल जैसी tools का उपयोग कर सकते हैं। इस तरह आप अपने Product या Service को उनकी ज़रूरतों के आधार पर सुधारना जारी रख सकते हैं

Digital Marketing के नुक़सान

डिजिटल मार्केटिंग धीरे-धीरे कई व्यवसायों के लिए मार्केटिंग का पसंदीदा तरीका बनता जा रहा है। हालाँकि, डिजिटल मार्केटिंग का उपयोग करने के कुछ नुकसान हैं। सबसे बड़ा नुकसान आपके डिजिटल मार्केटिंग अभियान को खोने की संभावना है। यदि आपकी वेबसाइट क्रैश हो जाती है या आपके सोशल मीडिया अकाउंट हैक हो जाते हैं, तो आप अपनी मार्केटिंग की सारी प्रगति खो सकते हैं। पारंपरिक मार्केटिंग की तुलना में यह एक बहुत बड़ा जोखिम है, जहां आपकी सबसे खराब स्थिति आमतौर पर सिर्फ एक खोया हुआ कागज या एक भूला हुआ विज्ञापन होता है।

1.ऑनलाइन मार्केटिंग में क्लिक fraud का रिस्क बहुत ज्यादा होता 

2.ऑनलाइन मार्केटिंग में आपकी सुरक्षा और गोपनीयता का खतरा बना रहता है।

डिजिटल मार्केटिंग और ट्रेडिशनल मार्केटिंग में क्या अंतर है।

traditional marketing v/s digital marketing in Hindi

डिजिटल मार्केटिंग

ट्रेडिशनल मार्केटिंग

1.Digital Marketing ज्यादातर कंटेंट Based मार्केटिंग होती है |

1. Traditional Marketing में हम generally Product पर फोकस करते हैं

 2.ऑनलाइन मार्केटिंग Basically थर्ड पार्टी Based मार्केटिंग होती है जैसे की media web content ,search email social media 

2. Traditional Marketing में mass Media phone center टेलीफोन आदि शामिल है।

3. online marketing में customer के साथ ईमेल chat social media etc. Ke साथ बात करते है।

3. Traditional Marketing में हम ग्राहक के फोन नंबर या कर्मचारियों के communicate करते है।

4.हम अपने टारगेट ऑडियंस से एक साथ एक स्थान पर मिल सकते है।

4. Targeted audience से हम एक साथ नही मिल सकते।

5. यह काफी सस्ता है।

5. Traditional Marketing की मार्केटिंग cost बहुत ज्यादा है।

6. डिजिटल मार्केटिंग से हम सीधे अपने कस्टमर तक पहुंच सकते है।

6. इसमें कुछ problem के कारण हम सीधे अपने कस्टमर तक नहीं पहुंच सकते।

7.हम अपने कस्टमर को देख नही सकते।

7. हम अपने prospective customers को देख सकते है।

8.बहुत ही कम लोगो की जरूरत होती है मार्केटिंग caimpaign को चलाने के लिए।

8. बहुत सारे लोगो की जरूरत होती है इसको manage करने के लिए।

9. Google webmaster Google Adword information और ऐसे बहुत सारे टूल्स है जिसकी मदद से हम अपने पूरे मार्केटिंग की सफलता या असफलता की जांच कर सकते है।

9. यहां हम प्रिंट रेडियो Television विज्ञापन की सफलता को नापना बहुत ही मुश्किल काम है। क्योंकि यह पता नही है की कौन सा Customer खरीदारी करेगा या नहीं करेगा।

10. हम अपने content Marketing का उपयोग करके दुनिया भर के लोगो तक पहुंच सकते है ।

10. Traditional Marketing में हम कंटेंट मार्केटिंग से हम ज्यादा लोगो तक नहीं पहुंच सकते 

11. Digital Marketing समय कोई पाबंदी नहीं होती Customer कही से भी किसी भी समय आप की वेबसाइट पर जा कर आपके प्रोडक्ट और सर्विसेज खरीद सकता है।

11. Traditional Marketing में यह पॉसिबल नही है।

12.Digital Marketing में हम अपने ग्राहक को एकSpecific ग्राहक को Specific offer के साथ टारगेट कर सकते है जिससे हमारा व्यवसाय बढ़ सके।

12. Traditional Marketing में इस प्रकार की रणनीति को लागू करना काफी मुश्किल भरा काम है इन रणनीतियों का उपयोग केवल छोटे व्यवसायओ द्वारा ग्राहक को बनाए रखने के लिए किया जा सकता हैं

Conclusion

दोस्तो हमने इस ब्लॉग में मार्केटिंग और डिजीटल मार्केटिंग और ट्रेडिशनल मार्केटिंग जाना और  डिजिटल और ट्रेडिशनल मार्केटिंग में क्या अंतर है यह समझा और कुछ टूल्स भी हमने देखे दोस्तो अगर आपको हमारा यह ब्लॉग अच्छा लगा हो कुछ वैल्यू मिली हो तो कमेंट करके जरूर बताएं ।अगर आपका कोई suggestion है तो मोस्ट वेलकम 

also read this this blog

Top 7 get multiple sources of income

थैंक यू दोस्तो मिलते है अगले ब्लॉग में तब तक के लिए जय हिंद

9 thoughts on “Top 12 Difference in Traditional Marketing V/S Digital Marketing”

  1. Pingback: Digital Marketing versus Traditional Marketing: Secret to Grow your Business - RK Academy

  2. Pingback: Traditional Vs Digital Marketing in 2022 Who's Best - Ishan Digitech

  3. Pingback: Traditional marketing vs. Digital Marketing 2022 - My blog

  4. Pingback: Traditional Marketing Vs Digital Marketing - MKM Digital

  5. Pingback: Traditional Marketing Vs Digital Marketing in Hindi - MKM Digital

  6. Hello would you mind sharing which blog platform you’re using?
    I’m looking to start my own blog soon but I’m having a tough time choosing between BlogEngine/Wordpress/B2evolution and
    Drupal. The reason I ask is because your layout seems different then most blogs and I’m looking for something
    unique. P.S Apologies for being off-topic but I had
    to ask!

  7. Pretty nice post. I just stumbled upon your weblog and wished to
    say that I’ve truly enjoyed surfing around your blog posts.
    In any case I will be subscribing to your feed and I hope you write again very soon!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Register For A Free Hindi Webinr

फ्री हिन्दी Webinar के लिए अभी रजिस्टर करे

जल्दी कीजिए Limited Seat है